Shaayrana : Sahir Ludhianvi

shayari 04

Let your lips feel this,
It’s nothing else, but Wine!
This is the best gift
from nature.

Sahir Ludhianvi

Original

Chhoo lene do nazuk honthon ko
Kuch aur nahi hai jaam hai ye
Kudrat ne jo hum ko baksha hai
Wo sabse haseen inaam hai ye

छू लेने दो नाजूक होटों को
कुछ और नही है जाम है ये
कुदरत ने जो हमको बक्षा है
वो सबसे हसीन ईनाम है ये
– साहिर लुधियानवी